खेल रत्न की दौड़ में बजरंग और विनेश

0
151

भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) ने हाल में एशियाई चैम्पियन बने बजरंग पूनिया और पिछले साल एशियाई खेलों की स्वर्ण पदक विजेता विनेश फोगाट को देश के सर्वोच्च खेल पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार देने की सिफारिश की .डब्ल्यूएफआई ने सोमवार को बजरंग और विनेश के नाम पिछले दो वर्षों में उनके शानदार प्रदर्शन को देखते हुए इस पुरस्कार के लिए भेजे. डब्ल्यूएफआई के अधिकारी ने कहा, ‘इन दोनों (बजरंग और विनेश) ने अपने आवेदन किए थे, जिसके बाद डब्ल्यूएफआई ने उनको खेल रत्न देने की सिफारिश की है,विश्व में नंबर एक बजरंग ने हाल में शियान में एशियाई चैंपियनशिप में पुरुषों के 65 किग्रा भार वर्ग में स्वर्ण पदक जीता था. इस 25 साल के पहलवान ने पिछले साल जकार्ता एशियाई खेलों में भी सोने का तमगा जीता था. विनेश एशियाई चैम्पियनशिप में केवल कांस्य पदक ही जीत पाई थीं, लेकिन वह नए भार वर्ग 53 किग्रा में लड़ रही थीं और इसलिए इसे अच्छी उपलब्धि माना जा रहा है. वह 2018 में एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनी थीं. बजरंग और विनेश के अलावा डब्ल्यूएफआई ने राहुल अवारे, हरप्रीत सिंह, दिव्या काकरान और पूजा ढांडा के नाम अर्जुन पुरस्कार के लिए भेजे हैं. पूजा ने पिछले साल विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य और राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक जीता था. दिव्या ने एशियाई चैम्पियनशिप में कांस्य पदक हासिल किया था. राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों में भी वह तीसरे स्थान पर रही थीं. अवारे राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता, जबकि हरप्रीत एशियाई चैम्पियनशिप के रजत पदक विजेता हैं.
पिछले साल बजरंग ने खेल रत्न न मिलने पर नाराजगी जताई थी और अदालत जाने की धमकी दी थी. तब क्रिकेटर विराट कोहली और भारोत्तोलक मीराबाई चानू को यह पुरस्कार मिला था. डब्ल्यूएफआई ने प्रशिक्षकों को दिए जाने वाले द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए वीरेंद्र कुमार, सुजीत मान, नरेंद्र कुमार और विक्रम कुमार के नामों की सिफारिश की है. भीम सिंह और जय प्रकाश का नाम ध्यानचंद जीवनपर्यंत उपलब्धि पुरस्कार के लिए भेजा गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here