बड़ी संख्या में कांग्रेसी हो सकते हैं भाजपा में शामिल

0
50

उपचुनाव की घोषणा से पहले ग्वालियर-चंबल अंचल से बड़ी संख्या में कांग्रेसी भाजपा में शामिल होने की सुगबुगाहट से कांग्रेसियों में हलचल मची हुई है। दूसरी तरफ ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक अधिक से अधिक संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को भाजपा ज्वॉइन कराने के लिए सक्रिय हो गए हैं। भाजपा ज्वॉइन करने के बाद पहली बार सिंधिया के जून के पहले सप्ताह में नगर में आने का कार्यक्रम बनाया जा रहा है। दूसरी तरफ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भी डैमेज कंट्रोल करने के लिए सक्रिय हो गए हैं। प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत पिछले सप्ताह ही शहर जिला कांग्रेस को निर्देशित कर गए थे कि सोशल मीडिया पर कांग्रेस छोड़ने का दावा करने वालों से संपर्क उनका रुख जाने। अगर उनकी आस्था व निष्टा पार्टी के साथ नहीं है तो उन्हें पार्टी से निष्कासित करें। कांग्रेस ने संभावित भगदड़ को रोकने के लिए नियुक्ति भी शुरू कर दी हैं। नौतपा में जिले का तापमान बढ़ने के साथ ही कोरोना के कारण ठंडा पड़ा सियासी माहौल गरमाने लगा है। क्योंकि जिले की तीन विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। इन तीनों सीटों पर कांग्रेस का कब्जा था। लेकिन ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ पूर्व मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी व पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर भाजपा ज्वॉइन कर ली। इन तीनों विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव होने हैं। चौथे चरण के लॉकडाउन के बाद भाजपा ज्वॉइन कर सकते हैं सिंधिया समर्थक : चौथे चरण के लॉकडाउन की समाप्ती के बाद वृहद स्तर पर कार्यक्रम आयोजित कर सिंधिया समर्थकों को भाजपा की सदस्यता ग्रहण कराने की तैयारी की जा रही है। उम्मीद है कि इस कार्यक्रम में ज्योतिरादित्य सिंधिया के अलावा भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सहित बड़े नेता उपस्थित रहेंगें। सिंधिया समर्थक महल से जुड़े लोगों से संपर्क कर भाजपा में शामिल होने के लिए उनकी सहमति के लिए संपर्क कर रहे हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देने वाले पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल ने बताया कि भोपाल कार्यक्रम के बाद सिंधिया के नगर आगमन का कार्यक्रम बनेगा। सिंधिया की मौजूदगी में बड़ी संख्या में भाजपा में शामिल होंगे। महल से जुड़े कार्यकर्ताओं से संपर्क किया जा रहा है। शहर जिला कांग्रेस अध्यक्ष डॉ देवेंद्र शर्मा ने बताया कि सिंधिया काफी समय से कांग्रेसियों को कॉल कर रहे हैं। जिनकी महल के प्रति निष्ठा थी, वे उनके साथ जा चुके हैं। अब तो निष्ठावान कांग्रेसी ही पार्टी में हैं। गिनती के लोग उपचुनाव में माहौल बिगड़ने के लिए कांग्रेस से इस्तीफा देकर जा सकते हैं। उससे पार्टी पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here