Monday, November 29, 2021
spot_img
HomeUncategorizedइंदौर में 500 परिवारों का दर्द

इंदौर में 500 परिवारों का दर्द

नोएडा में बनी सुपरटेक की 40 मंजिला इमारत को जमींदोज कर खरीदारों को 12 प्रतिशत ब्याज सहित पैसा लौटने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले की देशभर में चर्चा है। ऐसे सख्त रवैये की जरूरत इंदौर में भी है। घर का सपना पूरा नहीं कर पाने वाले 500 परिवार 10 सालों से फ्लैटों के कब्जे के लिए भटक रहे हैं। बुधवार को कई पीड़ितों ने रेरा में जल्दी सुनवाई की अर्जी भी लगाई। ढाई साल पहले जब करोड़ों की ठगी का हो-हल्ला मचा था तो पीड़ितों के लिए रेरा ने एक कमेटी बनाई थी, लेकिन बाद में प्रोजेक्ट का रेरा रजिस्ट्रेशन रद होने के बाद कमेटी भंग हो गई। बिल्डर निर्माण पूरा नहीं कर रहा है और लोग किस्तें चुका रहे हैं। निपानिया स्थित पिनेकल ड्रीम्स टाउनशिप में अधूरे टावर बड़े घोटाले की जीती-जागती कहानी हैं। 642 फ्लैटों के टावर में 321 फ्लैट बन चुके हैं। 80 लोग खुशकिस्मत थे, जिन्हें फ्लैटों का कब्जा मिल गया, लेकिन बिल्डर आशीष दास व पुष्पेंद्र वढेरा के दो प्रोजेक्टों में 500 लोग ऐसे हैं जो करोड़ों रुपये गंवा चुके हैं। तलावली चांदा निवासी संजय कुंद्रा के परिवार के चार फ्लैट पिनेकल ड्रीम्स में हैं। संजय ने 10 साल पहले जो कर्ज लिया था, उसे पूरा चुका दिया, लेकिन फ्लैट की चाबी मिलने का आज भी इंतजार है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments