Monday, September 20, 2021
spot_img
HomeUncategorizedजानें कौन किस पर पड़ा भारी

जानें कौन किस पर पड़ा भारी

दिल्ली के बिजली मंत्री सत्येंद्र जैन और गोवा के ऊर्जा मंत्री निलेश कैबराल  के बीच सोमवार बिजली के मुद्दे पर बहस हुई। गोवा में हुई पब्लिक बहस के दौरान दोनों नेताओं ने अपनी-अपनी सरकारों की तरफ से जनता के हित में किए जा रहे कार्यों को साझा किया। दिल्ली की केजरीवाल मॉडल की तारीफ करते हुए ऊर्जा मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि हम गोवा के लोगों को विश्वास दिलाना चाहते हैं कि अगर वहां आम आदमी पार्टी की सरकार बनती है तो आने वाले पांच सालों में चौबीस घंटे बिजली मिलेगी। लोग इनवेटर और जनरेटर की बात भूल जाएंगे। वहीं, निलेश कैबराल ने गोवा मॉडल की तारीफ करते हुए कहा कि उनके यहां दिल्ली से अच्छी स्कीम है। इससे जनता को लाभ मिल रहा है। सत्येंद्र जैन ने कहा कि निलेश कैबराल कह रहे हैं कि उनके यहां चौबीस घंटे बिजली इसलिए नही आती क्योंकि वह छत्तीसगढ़ से आती है। लेकिन हम बता दें कि दिल्ली की सरकार भी बिजली छत्तीसगढ़ से खरीदती है। दिल्ली में चौबीस घंटे बिजली मिल रही है। सत्येंद्र जैन ने कहा कि जब नेताओं को उनके सरकारी आवास की बिजली फ्री में दी जा सकती है तो जनता को क्यों नहीं। आखिर जनता ही तो टैक्स देती है। दिल्ली के सीएम केजरीवाल जो वादा करते हैं उसे पूरा भी करते हैं। भाजपा वालों की तरह जुमलाबाजी नही करते। केजरीवाल मॉडल की तारीफ करते हुए सत्येंद्र जैन ने कहा कि आम आदमी पार्टी सरकार देश भर अकेली ऐसी सरकार है जो पिछले सात वर्षों में जनता पर कोई अतिरिक्त टैक्स नही लगाया और न ही किसी से कोई कर्ज लिया। दिल्ली के मंत्री ने गोवा के मंत्री को बताया कि कैसी केजरीवाल समय से पहले काम करके जनता के पैसे बचाकर उसी पैसे की किस तरह से दूसरे कार्य में इस्तेमाल कर रही है। वहीं, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के मंत्री और गोवा के बिजली मंत्रियों के बीच बहस को बेहतरीन बताया और इसे लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत कहा। केजरीवाल ने दावा कि निलेश कैबराल ने स्वीकार किया कि इतने वर्षों के शासन के बाद भी भाजपा गोवावासियों को 24×7 बिजली उपलब्ध कराने में विफल रही। भाजपा भी गोवा में मुफ्त बिजली नहीं देगी। सत्येंद्र जैन ने दिल्ली की तरह गोवा में भी मुफ्त और निर्बाध बिजली देने का वादा किया। वहीं  गोवा के ऊर्जा मंत्री निलेश कैबराल ने बहस के दौरान अपनी सरकार को दिल्ली की सरकार के मुकाबले अच्छी बताने की कोशिश की।  बता दें कि पिछले दिनों गोवा के ऊर्जा मंत्री निलेश कैबराल ने बिजली पर बहस के लिए दिल्ली के मंत्री को चुनौती दी थी जिसे सत्येंद्र जैन ने स्वीकार कर लिया था। गोवा में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। आम आदमी पार्टी भी दिल्ली मॉडल पर वहां पर विधानसभा चुनाव लड़ने का एलान कर चुकी है। सीएम केजरीवाल ने अभी हाल में ही कहा था कि अगर पार्टी सत्ता में आयी तो गोवा के लोगों को तीन सौ युनिट मुफ्त में बिजली दी जाएगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments