Monday, November 29, 2021
spot_img
HomeUncategorizedपानी की तरह बहाया पैसा

पानी की तरह बहाया पैसा

अफगानिस्‍तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। इस बात की समीक्षा की जा रही है कि अफगानिस्‍तान में अमेरिकी सैनिकों की तैनाती कितनी जायज थी। अमेरिका के लिए यह कितना महंगा सौदा साबित हुआ है। इस बीच अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि अब अमेरिका के सबसे लंबे युद्ध को समाप्‍त करने का समय आ गया है। उन्‍होंने कहा कि वह चाहते हैं कि सभी अमेरिकी सैनिक 11 सितंबर से पहले अफगानिस्‍तान से वापस आ जाएं। उन्होंने राष्ट्रपति ट्रंप की एक मई 2021 की समयसीमा को आगे बढ़ा दिया है। दरअसल, अमेरिका ने तालिबान को सत्‍ता से बाहर करने के लिए अक्‍टूबर, 2001 में अफगानिस्‍तान पर आक्रमण किया था। अमेरिका का आरोप था कि अफगानिस्‍तान में तालिबान हुकूमत ओसामा बिन लादेन और अल-कायदा से जुड़े दूसरे आतंकवादी संगठनों को पनाह दे रहा है। अमेरिका अपने यहां आतंकी हमलों के लिए लादेन और अल कायदा को जिम्‍मेदार मानता है। यही से तालिबान और अमेरिका के जंग की शुरुआत मानी जाती है। अमेरिका ने अफगानिस्‍तान में तालिबान से लड़ने के लिए अरबों डॉलर खर्च किए हैं और बड़ी संख्‍या में सैनिक भेजे। इतना ही नहीं अमेरिका ने अफगानिस्‍तान में पुननिर्माण पर भी खर्च किया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments